भारतीय पुरातत्व के जनक कौन?

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण Archaeological Survey of India (ASI) ब्रिटिश पुरातत्वशास्त्री विलियम जोन्स (British archaeologist William Jones) द्वारा 15 जनवरी, 1784 को स्थापित एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल (कोलकाता) (Asiatic Society of Bengal) के उत्तराधिकारी थे। 1788 में इनका पत्र द एशियाटिक रिसर्चेज (The Asiatic Research) प्रकाशित होना आरंभ हुआ था और 1814 में यह प्रथम संग्रहालय बंगाल में बना। (ASI) भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) अपने वर्तमान रूप में 1861 में ब्रिटिश शासन के अधीन सर अलेक्जेंडर कनिंघम (Sir Alexander Cunningham) द्वारा तत्कालीन वायसराय चार्ल्स जॉन कैनिंग (Viceroy Charles John Canning) की सहायता से स्थापित हुआ था।

पुरातत्व क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान (Important contribution in the field of archaeology)

पुरातत्व के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए कनिंघम को भारतीय पुरातत्व का जनक (Father of Indian Archaeology) कहा जाता है। 1944 में, जब मार्टिमर व्हीलर महानिदेशक (Director-General Martimer Wheeler) बने, तब इस विभाग का मुख्यालय, रेलवे बोर्ड भवन शिमला में स्थित था। यह भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) पर्यटन एवं संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है।

Read More: थियोसोफिकल सोसाइटी

Advertisements

Related Posts

One thought on “भारतीय पुरातत्व के जनक कौन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *